The Magical frog | English Moral story |

English moral story

The Magical frog | English Moral Story for kids |

In a village, an old man lived happily with his son Renki and his wife. One day he called his son Renki and said son, now the time has come for both of us to go. But before we die, our wish is when we die, you go to the market and buy whatever you see at first sight, no matter how much expensive it is.

To Read The Lion and Mouse Story English story click here


Renki used to listen to his parents a lot. After their death, he did what his parents had told him. He went to the market and saw a silver box. Renki asked the owner of the box, can you sell this box to me? I am ready to pay any price for it. The owner of the box sold that box to Renki for 10 times the price.

The Magical frog
The Magical frog


Renki came home and showed that box to his wife. When he opened that box, a frog jumped out of it and came out. Both of them began to love the frog. Feed him good food and serve him a lot.
The special thing about that frog was that he was growing up like a man. His diet was also increasing day by day, he used to eat all the food in the house. Renki and his wife had to sleep hungry because of the frog.

Reward Time (English moral story)

One day Frog said to Renki’s wife that, ” you have served me very well. I am very happy that I was taking your examination. You two are really good people, tell me what do you want?” Renki’s wife said, we have not eaten anything for a long time, can you bring food, on hearing this, the frog pointed and a table full of delicious food came there. Seeing this, she was very happy, so Renki also came there.

To Read more English storiesClick Here

The frog said that “tomorrow morning you both will walk with me in the forest.” The next morning both the husband and wife went to the forest with the frog. The frog told them, dig it under the tree, here’s something for you. When both of them excavated, they found a box full of gold and silver jewelry. The frog said that you have served your parents and me without any greed, this is your reward for that service.

Saying this, the frog disappeared from there, both husband and wife brought the box full of gold and silver to their house and started living their life happily.

Hindi Stories for kids –CLICK HERE ,

Moral: We should always obey our parents.

अच्छाई का इनाम | Hindi Moral story |

hindi story with moral

अच्छाई का इनाम | Hindi Moral story | दोस्तों हमे हमेशा अच्छे काम करने चाहिए अच्छाई का बदला हमेशा मिलता है | इस कहानी के माध्यम से हम बतायेंगे केसे लडके को अपनी अच्छाई का बदला मिला |

Hindi story with Moral | नेकी का इनाम
Hindi story with Moral| अच्छाई का इनाम |

एक शहर में एक अमीर आदमी रहता था। वह बहुत अमीर था और एक शानदार जीवन जी रहा था। वह हमेशा अपने दोस्तों और पड़ोसियों से अपने पैसो के बारे में डींग मारता था। वह अपने नौकर से भी अच्छा व्यवहार नही करता था।उसने उसके साथ इतना बुरा व्यवहार किया कि वह बीमार पड़ गया।

सोने का चूहा – मनोरंजक हिन्दी कहानी

नौकर ने सोचा “मैं किसी दिन भाग जाऊंगा और फिर कभी वापस नहीं आऊंगा,” । उसने योजनाएँ बनाना शुरू किया। एक दिन, जब उसका मालिक काम पर गया, तो वह भाग गया। वह शहर के बाहर एक जंगल में पहुँच गया।

जंगल में कुछ खाने और पानी की तलाश में भटकते हुए , उसे एक गुफा मिली। वह गुफा खाली थी, इसलिए उसने उसमें छिपने का फैसला किया। “मैं अब आज़ाद हूँ। उसने सोचा मालिक मुझे यहाँ कभी नहीं ढूँढ सकते”, यह सोचते हुए वह खुशी से सो गया।

नोकर और शेर की मुलाकात (Hindi Moral story )


तभी उसे शेर के कराहने की आवाज़ सुनी आवाज़ सुन कर वह जाग गया । नोकर डर कर खड़ा हो गया उसने शेर की खतरनाक आँखों को देखा, शेर उसकी तरफ आ रहा था । वह डर गया। उसके पास न चीखने की ताकत थी, न ही भागने की।

अच्छाई का इनाम

बाघ लंगड़ाते हुए उसके करीब आ गया और बोला , “मेरे पंजे में एक कांटा फंस गया है। अगर आप इसे हटा देंगे, तो मैं ज़िन्दगी भर आपका अहसान नही भूलूंगा ।” नौकर ने धीरे से शेर के पंजे से कांटा निकाल दिया| शेर ने उसका शुक्रिया अदा किया और वे अच्छे दोस्त बन गए।

कुछ दिनों बाद, उस मालिक के आदमी जंगल में उस नौकर की तलाश में आए। उन्होंने उसे पकड़ लिया और उसे उसके मालिक के पास ले गए। मालिक ने आदेश दिया “इस नौकर को एक भूखे शेर के सामने डाल दो ,”

सजा के दिन, शहर भर से लोग लड़ाई देखने आए। जब शेर नौकर पर हमला करने वाला था, तो उसने उसे पहचान लिया। नौकर को एहसास हुआ कि वह वही है जिसे उसने एक बार बचाया था। हर कोई उनकी दोस्ती देख कर हेरान था। यह देख कर मालिक ने नौकर को माफ कर दिया और उसे जाने दिया।

Moral: “अच्छाई के बदले अच्छाई मिलती है “

बुरी संगत का असर- Hindi Moral Story

Hindi story with moral

बुरी संगत का असर |Hindi Moral story – इस कहानी में बुरी संगती का असर एक सडे हुए आम के माध्यम से बताया गया है | बुरी संगत इन्सान के लिए बहुत नुकसानदायक होती है हमे हमेशा अच्छे लोगो के साथ रहना चाहिए | अकबर बीरबल की कहानियाँ पढ़ें

बुरी संगत का असर- Hindi Moral Story

बुरी संगत का असर|

एक बार एक गाँव में एक किसान रहता था। वह हर दिन खेत में काम करने के लिए सुबह जल्दी निकल जाता था, खेत में बहुत मेहनत करता था और शाम को घर लौटता था।

वह दुखी रहता था क्योंकि उसका इकलौता बेटा बुरी संगत में रहता था। वह अपने पिता का कहना नही मानता था और कभी अपने पिता की इज्ज़त भी नहीं करता था।

Hindi Moral stories

गरीब किसान ने अपने बेटे को सही रास्ते पर लाने की बहुत कोशिश की, लेकिन उसकी सारी कोशिशें नाकाम रहीं। उसने अपने बेटे को उसके बुरे दोस्तों से दूर रहने की सलाह दी, पर बेटे ने कभी अपने पिता की बात नहीं मानी। अंत में, वह किसान एक योजना बनायीं |

( बुरी संगत का असर)

एक दिन, जब उसका बेटा घर पर नहीं था, उसने अपने बगीचे से कुछ ताजे आम उठाए। उसने ताजे आमों के साथ एक सड़ा हुआ आम रखा और अपने बेटे के लौटने का इंतजार करने लगा।

जब बेटा घर लौटा, तो उसके पिता ने कहा, “यहाँ एक आम की टोकरी है कृपया उन्हें रसोई के एक कोने में रख दें।” ये वही टोकरी थी जिसमे किसान ने ताज़े आम के साथ एक सड़ा हुआ आम रखा था | बेटे ने वही किया जो उसे बताया गया था। उसने देखा कि कुछ ही दिनों में सारे आम सड़ चुके थे। वह दुखी हुआ और अपने पिता के पास गया।

बच्चो के लिए educational website – क्लिक करें

उसके पिता ने कहा, ‘मैंने ताजे के बीच एक सड़ा हुआ आम रखा था। तुमने शायद यह नहीं सोचा होगा कि एक सड़ा हुआ आम बाकी आमो को भी खराब कर सकता है। इसलिए तुमने इसे फेंकने की ज़रूरत नहीं समझी । इसी तरह, तुम अपनी बुरी संगति के दुष्परिणामों को महसूस नहीं कर पा रहे हो ।”

बेटा समझ गया कि उसके पिता क्या कहना चाहते हैं। उसने अपने पिता से अपनी सभी बुरी आदतों को छोड़ने और अपने पिता को उस पर गर्व महसूस कराने का वादा किया।

Click here for More- Hindi Stories

Moral: बुरी संगत से अकेलापन बेहतर है।

चिड़िया की 2 अनमोल बातें | Hindi Moral Story

Hindi-Moral-story-for-kids

चिड़िया की 2 अनमोल बातें | Hindi Moral Story: चिड़िया की कही 2 अनमोल बातें | Hindi story for kids |

Hindi Moral story for kids
Hindi Moral story for kids

प्रेरणादायक हिन्दी कहानी |

एक बार एक अमीर आदमी ने एक चिड़िया को पकड़कर पिंजरे में डाल दिया।कोई भी पक्षी पिंजरे में बंद रहना पसंद नहीं करता है ऐसे ही चिड़िया को भी पिंजरे में रहना अच्छा नही लग रहा था ।

चिड़िया उस आदमी से प्राथना करने लगी,”कृपया मुझे आज़ाद करें।

(तोते की कहानी )

अगर आप मुझे जाने देंगे, तो मैं आपको खुशी का राज बताउंगी ।आदमी अमीर था लेकिन खुश नहीं था।

वह खुशी का राज जानना चाहता था। इसलिए उसने चिड़िया को पिंजरे से आज़ाद कर दिया।

चिड़िया की कही 2 अनमोल बातें | Hindi Moral story

“चिड़िया ने कहा, सुनो, जो चीज़ चली गई उसपर कभी मत रोना । और बेकार की बातों पर कभी भरोसा मत करना”।”यही खुशी का रहस्य है |”


आदमी को यह बात कुछ खास नही लगी । वह बोला , “यह सिर्फ एक बेकार सी साधारण सलाह है!”
चिड़िया ने थोड़ा और ऊपर उड़ान भरी और कहा, “तुमने मुझे आज़ाद करके बड़ी गलती की है । मेरे पंखों के नीचे कीमती हीरे हैं। अब आपको उनमें से कोई भी नहीं मिलेगा |”

यह बात सुन कर अमीर आदमी बहुत गुस्सा और दुखी हुआ। आदमी बोला , “अरे नहीं! मैं कितना मूर्ख हूँ! ( बिल्ली की कहानी )

तुम दुष्ट पक्षी ! रुको मे तुम्हे फिर से पकड़ लूँगा ।” वह दुःख करने लगा।
चिडिया ने कहा।”मूर्ख मत बनो महाराज”। “तुम अच्छे आदमी हो जो तुमने मुझे जाने दिया । इसलिए मैंने आपको एक अच्छी सलाह दी।जो सलाह मैंने तुम्हे दी थी उसके बारे में सोचो।

Click here for Hindi Moral stories

चिड़िया की अनमोल बातें | चिड़िया की कहानी |

पहली बात में मैंने कहा था कि गयी हुई चीज़ पर रोना मत।मैं तुम से पहले से ही बहुत दूर हूँ । तुम मुझे फिर से पकड़ नहीं सकते हो । तो अपने आप को इसके बारे में दुखी क्यों करें?

दूसरी बात , यह है कि मेरे जैसे एक साधारण पक्षी के पंखों के नीचे हीरे कैसे हो सकते हैं?

” वे मेरे बेकार शब्द थे”। ऐसे शब्दों पर भरोसा करना एक गलती है!

मेरी दी हुई सलाह का प्रयोग करें और खुश रहें । अलविदा

ये कहते हुए चिड़िया उड़ गयी | ( सोने का चूहा हिन्दी कहानी )

30 Birds name in Hindi & English with pictures Click here to Know

“नदी और पहाड़।” प्रेंरादायक हिंदी कहानी |

नदी-और-पहाड़-की-कहानी

प्रेंरादायक हिंदी कहानी , “नदी और पहाड़।”- Inspirational Hindi Story for kids


एक बार नदी ने मन में सोचा “क्या मैं अपनी पूरी जिंदगी इसी तरह बहती रहूंगी”? क्या मुझे कुछ दिन का आराम नहीं मिल सकता है?

उसै एक सलाह चाहिए थी तो उसे पहाड़ के सामने अपने विचार रखे, उसकी बात सुनकर पहाड़ बहुत जोर से हंसा और बोला, बहन नदी जरा मुझे देखो “मैं कितने सालो से एक ही जगह पर खड़ा हूं |”

नदी और पहाड़ की कहानी | hindi story फॉर kids
नदी और पहाड़ की कहानी |

नदी बोली तुम बहुत मजबुत और एक ही जगह पर स्थिर हो तो तुम एक ही जगह खड़े रहकर कैसे थक सकते हो |

मुझे देखो में हमेशा बहती रहती है। मुझे तो एक भी मिनट आराम करने का वक्त नहीं मिलता है। मैं बहुत थक जाती हूं।

Hindi Moral stories – Click Here

पहाड़ ने नदी को समझाया | ( प्रेंरादायक हिंदी कहानी | )

पहाड़ फिर से हँसा और बोला, ऐसा तुम्हें लगता है की मैं नहीं थकता हूं लेकिन एक जगह पर खड़े रहकर मैं बहुत ठक जाता हूँ |पहाड़ बोला, ” मैं हर रोज यही पेड़, यही आसमान देख कर थक गया हूँ ” |

(नदी और पहाड़ की कहानी- inspirational Hindi story )

“मेरा भी मन करता है की मैं तुम्हारी तरह बहता रहूँ , एक जगह से दसरी जग जाऊं , नए नए गाँवो में , नए जंगलो में जाऊं,” मैं भी खुलकर जीना चाहता हूं तुम्हारी तरह सब मुझे भी प्यार दें |

नदी बीच में ही बोली, बहुत अजीब बात है तुम्हारी जिंदगी तो बहुत आरामदयाक और खुशाल है तब भी तुम खुश नहीं हो|पहाड़ मुस्कुरा कर बोला, बहन ये सब तुम्हें समझ नहीं आएगा देखो , “तुम सब के द्वारा पूजा जाती हो, तुम दुसरो के लिए बहती हो। और इतना ही नहीं जो कुछ बचाता है वो तुम समुद्र को अर्पित कर देती हो “|


Akbar Birbal Moral Stories in Hindi- क्लिक करें

ये सुनकर नदी खुश हो जाती है और पूरे जोश के साथ पहाड़ से कहती है ,तुम बिलकुल सही कह रहे हो पहाड़ भाई |”मेरी जिंदगी का सबसे महत्वपूर्ण उदेश्य दुसरो को जीवन देना हैमुझे ये बात समझाने के लिए आपका बहुत धन्यवाद। और खुशी खुशी तेज आवाज करती हुई बहने लगती है।

Hindi stories for kids – click here

The Lion and the Mouse

english-story-for-kids

The Lion and the Mouse English story for kids: Easy and short English story for kids with Moral and Hindi Translation.

The Lion and the Mouse English story for kids

Once a tiger was resting. Then the mouse passed from there. Tiger caught the mouse. The mouse prayed please don’t eat me. Do you know if I can come to your work someday?

Tiger felt pity for the mouse and left the mouse.

The Lion and the Mouse |English story for kids
English story for kids

One day hunters came to the forest. His eyes fell on Tiger. The hunter casts a net to catch the tiger. Tiger got caught in the hunter’s net. the hunter was feeling fatigued.

he thought to take some rest before walking. Thinking this he fell asleep sitting under the tree. Tiger was feeling very helpless in the trap.
That time the rat passed by which Tiger had left that day. He saw the tiger trapped in the net. The rat came running to help the tiger and gnawed the whole net. And Tiger got free.

Tiger thanks the mouse. Both happily went to their homes.

Moral of the Story: Goodness begets Goodness

Click here for English Poem for kids

click here for Lion pics

Lion and mouse | story for kids |

Hindi Translation:

एक बार एक टाइगर आराम कर रहा था। तभी चूहा वहां से गुजरा। टाइगर ने चूहे को पकड़ लिया। चूहे ने प्रार्थना की कृपया मुझे मत खाओ। क्या पता मैं किसी दिन आपके काम पर आ जाऊं ? टाइगर को चूहे पर दया आई और उसने चूहे को छोड़ दिया।

एक दिन एक शिकारी जंगल में आया । उसकी नजर टाइगर पर पड़ी। शिकारी टाइगर को पकड़ने के लिए जाल डालता है। टाइगर शिकारी के जाल में फंस गया। शिकारी थकान महसूस कर रहा था। उसने सोचा चलने से पहले थोड़ा आराम कर लो। यह सोचकर वह पेड़ के नीचे बैठ कर सो गया। जाल में टाइगर काफी बेबस महसूस कर रहा था।


उस समय चूहा वहां से गुजरा जिसे उस दिन टाइगर ने छोड़ दिया था | उसने देखा कि टाइगर जाल में फंसा हुआ है। टाइगर की मदद के लिए चूहा दौड़ता हुआ आया और पूरे जाल को कुतर दिया और टाइगर मुक्त हो गया। टाइगर ने चूहे का धन्यवाद किया और दोनों खुशी-खुशी अपने-अपने घर चले गए।

Moral of the story : अच्छाई अच्छाई को जन्म देती है |