“नदी और पहाड़।” प्रेंरादायक हिंदी कहानी |

प्रेंरादायक हिंदी कहानी , “नदी और पहाड़।”- Inspirational Hindi Story for kids


एक बार नदी ने मन में सोचा “क्या मैं अपनी पूरी जिंदगी इसी तरह बहती रहूंगी”? क्या मुझे कुछ दिन का आराम नहीं मिल सकता है?

उसै एक सलाह चाहिए थी तो उसे पहाड़ के सामने अपने विचार रखे, उसकी बात सुनकर पहाड़ बहुत जोर से हंसा और बोला, बहन नदी जरा मुझे देखो “मैं कितने सालो से एक ही जगह पर खड़ा हूं |”

नदी और पहाड़ की कहानी | hindi story फॉर kids
नदी और पहाड़ की कहानी |

नदी बोली तुम बहुत मजबुत और एक ही जगह पर स्थिर हो तो तुम एक ही जगह खड़े रहकर कैसे थक सकते हो |

मुझे देखो में हमेशा बहती रहती है। मुझे तो एक भी मिनट आराम करने का वक्त नहीं मिलता है। मैं बहुत थक जाती हूं।

Hindi Moral stories – Click Here

पहाड़ ने नदी को समझाया | ( प्रेंरादायक हिंदी कहानी | )

पहाड़ फिर से हँसा और बोला, ऐसा तुम्हें लगता है की मैं नहीं थकता हूं लेकिन एक जगह पर खड़े रहकर मैं बहुत ठक जाता हूँ |पहाड़ बोला, ” मैं हर रोज यही पेड़, यही आसमान देख कर थक गया हूँ ” |

(नदी और पहाड़ की कहानी- inspirational Hindi story )

“मेरा भी मन करता है की मैं तुम्हारी तरह बहता रहूँ , एक जगह से दसरी जग जाऊं , नए नए गाँवो में , नए जंगलो में जाऊं,” मैं भी खुलकर जीना चाहता हूं तुम्हारी तरह सब मुझे भी प्यार दें |

नदी बीच में ही बोली, बहुत अजीब बात है तुम्हारी जिंदगी तो बहुत आरामदयाक और खुशाल है तब भी तुम खुश नहीं हो|पहाड़ मुस्कुरा कर बोला, बहन ये सब तुम्हें समझ नहीं आएगा देखो , “तुम सब के द्वारा पूजा जाती हो, तुम दुसरो के लिए बहती हो। और इतना ही नहीं जो कुछ बचाता है वो तुम समुद्र को अर्पित कर देती हो “|


Akbar Birbal Moral Stories in Hindi- क्लिक करें

ये सुनकर नदी खुश हो जाती है और पूरे जोश के साथ पहाड़ से कहती है ,तुम बिलकुल सही कह रहे हो पहाड़ भाई |”मेरी जिंदगी का सबसे महत्वपूर्ण उदेश्य दुसरो को जीवन देना हैमुझे ये बात समझाने के लिए आपका बहुत धन्यवाद। और खुशी खुशी तेज आवाज करती हुई बहने लगती है।

Hindi stories for kids – click here

10 thoughts on ““नदी और पहाड़।” प्रेंरादायक हिंदी कहानी |”

Leave a Comment