गुब्बारे – हिन्दी पोएम

गुब्बारे हिन्दी पोएम | बच्चो के लिए हिन्दी पोएम | छोटे बच्चे को गुब्बारे बहुत पसंद आते हैं | रंग बिरंगे गुब्बारे बच्चो को बड़ा लुभाते हैं | इस पोएम के माध्यम से बच्चे कविता जल्दी सीखेंगे और मजे से याद करेंगे | यह कविता हिन्दी के मशहुर कवि हरिवंश राय बच्चन जी द्वारा लिखी गई है | ( बंदर की शादी पोएम )

गुब्बारों का लेकर ढेर ,
देखो , आया है शमशेर |
हरे , बेंगनी , लाल , सफेद ,
रंगो के हैं कितने भेद |
कोई लम्बा, कोई गोल ,
लाओ पैसे , ले लो मोल |
मुटठी मे ले लो इनकी डोर,
इन्हें घुमाओ चारो और |
हाथों से दो इन्हें उछाल,
लेकिन छूना खूब संभाल |
पड़ा किसी के उपर जोर ,
एक जोर का होगा शोर |
गुब्बारा फट जायेगा ,
खेल खत्म हो जाएगा |
– हरिवंशराय बच्चन

English Font

Gubbaro ka lekr dhair,
dekho aaya hai shamshair
Hare, bengni, Lal , Safed,
Rango ke hain kitne bhaid
koi lmba, koi gol,
Lao paise le lo mol.
Muthi me le lo inki Dor,
inhe ghumao charo aur.
Hatho se do inhe uchal,
lekin chhuna khub smbhal.
Pda kisi ke upr zor,
Aik zor ka hoga shhor.
Gubbara fat jayega,
khail khtam ho jayega. ( Fruits name with Pic )

ऐसे ही और अच्छी कविता पढने के लिए क्लिक करें – बच्चो के लिए हिन्दी पोएम

Leave a Comment